Admit card , latest vacancy,current vacancy,latest result ,all govt scheme

PM ने अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए किया ऐलान ,जानें-कहा खर्च होगा 20 लाख करोड़ का आर्थिक पैकेज

20 लाख करोड़ का पैकेज 2020-21 के स्वीकृत बजट यानी 30 लाख करोड़ से करीब 10 लाख करोड़ कम है.

  • इस आर्थिक पैकेज से अर्थव्यवस्था में नई जान फूंकने की कोशिश की जाएग

  • हर स्तर के लिए कुछ न कुछ होगा.

  • ये आर्थिक पैकेज भारत की जीडीपी का करीब 10 प्रतिशत है

  • PM ने अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए किया ऐलान

कोरोना संकट और लॉकडाउन के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को देश को पांचवीं बार संबोधित किया. रात 8 बजे अपने संबोधन में पीएम मोदी ने लड़खड़ाती अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए आर्थिक पैकेज का ऐलान किया. पुराने पैकेज मिलाकर ये कुल 20 लाख करोड़ का पैकेज है. वहीं वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण बताएंगी कि ये आर्थिक पैकेज कहां और कैसे खर्च होगा. हालांकि इस पैकेज में पहले से चल रहे कई योजनाओं को भी शामिल किया गया है.
अपने संबोधन में पीएम ने कहा कि 20 लाख करोड़ रुपये का पैकेज 2020 में देश की विकास यात्रा को आत्मनिर्भर भारत अभियान को नई गति देगा. ये पैकेज भारत की जीडीपी का करीब-करीब 10 प्रतिशत है. सबसे अहम ये है कि ये आर्थिक पैकेज उन लोगों के लिए है जो कोरोना के चक्र में बुरी तरह फंस गए हैं. प्रधानमंत्री ने साफ किया इस आर्थिक पैकेज से कुटीर उद्योग, लघु-मंझोले उद्योग, श्रमिक, किसान और मध्यम वर्ग को फायदा मिलेगा. साथ ही आर्थिक पैकेज भारतीय उद्योग जगत को भी नई ताकत देगा.

कितने बंदिशें- कितनी छूट? मुख्यमंत्रियों के सुझाव से तय होंगे लॉकडाउन 4.0 के नियम

20 लाख करोड़ का पैकेज 2020-21 के स्वीकृत बजट यानि 30 लाख करोड़ से करीब 10 लाख करोड़ कम है. अब बड़ा सवाल उठता है कि इतनी बड़ी रकम कहां से आएगी. किस मद से इसे दिया जाएगा. हालांकि, ये साफ है कि इस पैकेज में पहले से घोषित आर्थिक पैकेज शामिल हैं.

पैकेज को लेकर बहुत कुछ साफ होना बाकी…

20 लाख करोड़ का पैकेज 2020-21 के स्वीकृत बजट यानी 30 लाख करोड़ से करीब 10 लाख करोड़ कम है

प्रधानमंत्री मोदी ने काफी पहले मेक इन इंडिया का नारा दिया था. कोरोना काल ने उसको आगे बढ़ाने का एक मौका दे दिया है. अब हिंदुस्तान के लोग अपने हुनर और कौशल से कोरोना से लड़ेंगे और डूबती अर्थव्यवस्था के तारणहार बनेंगे. इस आर्थिक पैकेज से अर्थव्यवस्था में नई जान फूंकने की कोशिश की जाएगी. हालांकि पैकेज को लेकर अभी बहुत कुछ साफ होना बाकी है

.

20 लाख करोड़ का पैकेज 2020-21 के स्वीकृत बजट यानी 30 लाख करोड़ से करीब 10 लाख करोड़ कम है

हर स्तर के लिए कुछ न कुछ होगा
वित्त मंत्रालय के प्रिंसिपल इकोनॉमिक एडवाइजर संजीव सान्याल ने कहा कि समाज के हर वर्ग को आर्थिक पैकेज का लाभ मिलेगा. आजतक से खास बातचीत में संजीव सान्याल ने कहा कि यह छोटा पैकेज नहीं है, 20 लाख करोड़ रुपये है. उद्योग सेक्टर की जो मांग थी, ये उससे कहीं अधिक है. हमारी कोशिश रही है कि समाज के हर वर्ग को कुछ न कुछ मिले. हर स्तर के लिए कुछ न कुछ होगा.
वित्त मंत्रालय के प्रिंसिपल इकोनॉमिक एडवाइजर ने कहा कि आर्थिक पैकेज की डिटेल एक बार में सामने नहीं आएगी. इसके लिए कई स्टेज लगेंगे. बहुत विस्तार में बताने पर समय लगेगा. अगले दो-तीन दिन में आर्थिक पैकेज से जुड़ी सभी जानकारी लोगों के सामने रखी जाएंगी.

Related post